Fennel Seeds For Gas: ये हरे बीज गैस और एसिडिटी का अचूक घरेलू इलाज तो हैं ही पर ..

dailypress24
7 Min Read

Fennel Seeds For Gas: एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटीफंगल गुणों और विटामिन, खनिज, पोषक तत्वों और फाइबर से भरपूर होने के कारण सौंफ के बीज पाचन संबंधी सभी समस्याओं के लिये फायदेमंद माना जाता हैं। जानिये गैस और एसिडिटी के लिए कैसे करें इसका सेवन।

Fennel Seeds For Gas

सौंफ़ एक स्वादिष्ट मसाला है जो आमतौर पर भारतीय खाना पकाने में उपयोग किया जाता है। भारत में लोग खाना खाने के बाद सौंफ खाना पसंद करते हैं क्योंकि इससे उनके मुंह को ताजगी महसूस होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि सौंफ पेट की समस्याओं में भी मदद कर सकती है?

सौंफ़ के बीज में बहुत सारे महत्वपूर्ण खनिज, विटामिन और पोषक तत्व होते हैं जो हमारे शरीर के लिए अच्छे होते हैं। वे पाचन समस्याओं में मदद कर सकते हैं और यहां तक ​​कि आपके पेट में एसिडिटी जैसे एहसास में भी मदद कर सकते हैं। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप अपने पेट को बेहतर महसूस कराने और अपने पाचन को अच्छी तरह से काम करने में मदद करने के लिए सौंफ़ का उपयोग कर सकते हैं।

एसिडिटी के लिये सौंफ़ के बीज (Fennel seeds for acidity)

जब पेट की ग्रंथियां बहुत अधिक एसिड बनाती हैं तो इससे एसिडिटी की समस्या हो सकती है। अगर आप बहुत दूर या गलत समय पर खाना खाते हैं तो इससे भी एसिडिटी हो सकती है। एसिडिटी आपके पेट को खराब कर सकती है, आपको गैस की समस्या हो सकती है। सौंफ खाने से एसिडिटी दूर हो जाती है और आप बेहतर महसूस करते हैं।
सौंफ़ में एनेथोल नामक एक विशेष तत्व होता है जो हमारे पेट को शांत करने में मदद करता है। यह पेट की ख़राबी और कब्ज जैसी समस्याओं में मदद कर सकता है। सौंफ के बीज में विटामिन, खनिज और फाइबर जैसे बहुत सारे अच्छे तत्व होते हैं जो इसे सीने में जलन और हमारे पेट के ख़राब होने पर उन्हें बेहतर महसूस करा सकते हैं।
सौंफ़ गर्भवती महिलाओं के लिए पेट की समस्याओं से निपटने का एक बहुत ही सुरक्षित तरीका है, जैसे कि जब उनका पेट बहुत अधिक अम्लीय महसूस होता है। वे बेहतर महसूस करने के लिए एक विशेष पेय में सौंफ़ के बीज का उपयोग कर सकते हैं या उन्हें पानी में भिगो सकते हैं।

गैस्ट्रिक समस्याओं के लिए सौंफ़ के बीज (Fennel Seed for Gastric Problems)

सौंफ के बीज में बहुत सारा फाइबर होता है और सिर्फ एक छोटे चम्मच सौंफ के बीज में लगभग 2 ग्राम फाइबर होता है। यदि आपको कब्ज़ है या पेट में परेशानी है जिसके कारण आपको गैस बनती है, तो बहुत अधिक फाइबर वाला भोजन खाने से आपको मदद मिल सकती है। सौंफ़ के बीजों में भी विशेष गुण होते हैं जो उन बैक्टीरिया से लड़ सकते हैं जो आपको गैसी महसूस कराते हैं। अपने भोजन में सौंफ़ शामिल करने से आपके पेट को बेहतर करने में मदद मिल सकती है।

ये भी पढ़े : क्यों ज़रूरी है मानसिक स्वास्थ्य ? आये समझे कैसे रखे मस्तिष्क को स्वस्थ ?

गैस के लिए सौंफ कैसे खायें (How to eat fennel for gas)

  1. सौंफ का पानी बनाकर सेवन किया जा सकता है।
  2. जब आप चाय बनाने या उसके साथ खाना पकाने के लिए सौंफ के बीज का उपयोग करना चाहते हैं, तो पहले उन्हें कुचल देना एक अच्छा विचार है। इससे बीजों से तेल और स्वादिष्ट स्वाद निकलने में मदद मिलती है।
  3. आप अपने खाने का स्वाद और भी अच्छा और मीठा बनाने के लिए इसमें भुनी हुई सौंफ डाल सकते हैं।
  4. एक खास ड्रिंक बनाने के लिए आपको सौंफ के बीजों को पानी में उबालना होगा।

लीवर के लिए सौंफ़ के बीज का उपयोग

सौंफ के बीज का तेल लीवर को खराब होने से रोकता है और हेपेटोप्रोटेक्टिव एजेंट के रूप में कार्य कर सकता है। सौंफ के बीज का तेल का मौखिक सेवन भी लीवर की क्षति से जुड़े एंजाइमों के स्तर को कम कर सकता है।1,4 इस प्रकार सौंफ का बीज वास्तव में लीवर के लिए अच्छा है। लेकिन मनुष्यों में लिवर की समस्याओं के लिये सौंफ़ के बीज के उपयोग का समर्थन करने के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है। इसलिए आपको एडवाइस दी जाती है कि यदि आप लीवर की किसी समस्या से परेशान हैं तो डॉक्टर की सलाह का पालन करें।

कैंसर में सौंफ के बीज का उपयोग

वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन किया और पाया कि सौंफ़ के बीज हमारे शरीर में ट्यूमर को बढ़ने से रोकने में मदद कर सकते हैं। उन्होंने यह भी पाया कि सौंफ़ के बीज कैंसर कोशिकाओं को मार सकते हैं। लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए और अधिक अध्ययन किए जाने की आवश्यकता है कि सौंफ़ के बीज वास्तव में कैंसर के इलाज में सहायक हैं। कैंसर के इलाज या रोकथाम के लिए किसी भी हर्बल दवा का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से बात करना महत्वपूर्ण है। हमें उन सभी तरीकों को समझने के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है जिनसे सौंफ़ के बीज हमारे स्वास्थ्य में मदद कर सकते हैं।

ये भी पढ़े : क्या डायबिटीज के मरीजों को गाजर (Carrot) नहीं खाना चाहिए ?

डायबिटीज में सौंफ के बीज का उपयोग

सौंफ़ के बीज आपके रक्त में शर्करा की मात्रा को कम करने में मदद कर सकते हैं। इनमें एक विशेष तेल भी होता है जो मधुमेह होने पर आपके पैंक्रियाज और गुर्दे को स्वस्थ बना सकता है। लेकिन हमें यह सुनिश्चित करने के लिए और अधिक शोध करने की आवश्यकता है कि सौंफ़ के बीज आपके महत्वपूर्ण अंगों को मधुमेह से होने वाले नुकसान से कितनी अच्छी तरह बचा सकते हैं। इसलिए मधुमेह के लिए सौंफ के बीज या अन्य हर्बल दवाओं का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करना महत्वपूर्ण है।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *